कश्यप सन्देश

kashyap-sandesh
20 July 2024

ट्रेंडिंग

माइक्रोसॉफ्ट सॉफ़्टवेयर आउटेज से वैश्विक हड़कंप, भारत में भी कई सेवाएं प्रभावित
निषाद समुदाय की कहानी: मनोज कुमार मछवारा की कलम से
निषाद समुदाय की कहानी: मनोज कुमार मछवारा की कलम से
दरभंगा जिला में जीतन साहनी हत्याकांड का सफल खुलासा
मनोज कुमार मछवारा की कलम से
अखिल भारतीय आदिवासी कश्यप कहार निषाद भोई का दो दिवसीय प्रांतीय सम्मेलन

उत्तरी सिक्किम में लगातार बारिश से तबाही, 2,000 पर्यटक फंसे

उत्तरी सिक्किम: पिछले 60 घंटों से उत्तरी सिक्किम में हो रही निरंतर बारिश ने भारी तबाही मचाई है। तीस्ता नदी के जलस्तर में वृद्धि के कारण संकलंग में एक पुराना झूला पुल और एक नया बैली पुल ढह गया है। इस दुर्घटना ने लगभग 2,000 पर्यटकों को फंसा दिया है और उत्तरी सिक्किम के ज़ोंगु क्षेत्र से महत्वपूर्ण संपर्क काट दिया है।

जिला मजिस्ट्रेट हेम कुमार छेत्री ने कल एक बैठक बुलाई थी जिसमें बारिश से हुए नुकसान का आकलन किया गया। इस भयंकर बारिश के कारण छह लोगों की जान चली गई है—तीन पकेशेप में और तीन अंबिथांग में। अंबिथांग और कबी में कई लोग घायल भी हुए हैं।

नम्ची और गंगटोक जिलों से भी रिपोर्टें आ रही हैं कि भारी बारिश के कारण विभिन्न ग्रामीण सड़कें बह गई हैं।

जिला प्रशासन और राज्य सरकार ने इस आपदा का सामना करने के लिए आपातकालीन सेवाओं को सक्रिय कर दिया है। प्रभावित क्षेत्रों में राहत कार्य जारी है, और फंसे हुए पर्यटकों की सहायता के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं।

जिला मजिस्ट्रेट छेत्री ने कहा, “हमारी पहली प्राथमिकता फंसे हुए लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करना है। हम सभी आवश्यक संसाधनों का उपयोग कर रहे हैं ताकि प्रभावित लोगों को जल्द से जल्द राहत पहुँचाई जा सके।”

भारी बारिश ने उत्तर सिक्किम के कई हिस्सों में जनजीवन को प्रभावित किया है, जिससे स्थानीय लोग और पर्यटक दोनों ही कठिनाइयों का सामना कर रहे हैं। इस प्राकृतिक आपदा ने राज्य में इंफ्रास्ट्रक्चर और परिवहन सेवाओं को बुरी तरह प्रभावित किया है, जिससे जल्द ही पुनर्निर्माण कार्य की आवश्यकता होगी।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top