कश्यप सन्देश

kashyap-sandesh
24 July 2024

ट्रेंडिंग

बड़े ही हर्ष उल्लास के साथ मनाई गई महर्षि कालू बाबा की जयंती
बांग्लादेश में हिंसक प्रदर्शन के बीच अब तक साढ़े चार हजार से अधिक भारतीय छात्र लौटे
निषाद समुदाय की कहानी: मनोज कुमार मछवारा की कलम से
माइक्रोसॉफ्ट सॉफ़्टवेयर आउटेज से वैश्विक हड़कंप, भारत में भी कई सेवाएं प्रभावित
निषाद समुदाय की कहानी: मनोज कुमार मछवारा की कलम से

नालंदा विश्वविद्यालय के नवनिर्मित परिसर का उद्घाटन, प्रधानमंत्री ने भारतीय परंपराओं और विकास की नई दिशा की प्रशंसा की

राजगीर, बिहार में नालंदा विश्वविद्यालय के नवनिर्मित परिसर का उद्घाटन करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसे विश्व के समक्ष भारतीय पहचान और परंपराओं का उत्कृष्ट उदाहरण बताया। उन्होंने कहा कि नालंदा विश्वविद्यालय का पुनर्जागरण उभरते भारत की क्षमता और शक्ति का प्रतीक है। श्री मोदी ने कहा कि उनकी सरकार प्राचीन परंपराओं की भावना पर काम कर रही है, जिससे हम विकास और पर्यावरण संरक्षण को साथ-साथ बढ़ावा दे रहे हैं। उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन को भी इसी दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम बताया।

प्रधानमंत्री ने अपने भाषण में कहा कि उनकी सरकार भारत को शिक्षा क्षेत्र में एक नई पहचान देकर उसे एक बड़े ज्ञान केंद्र के रूप में पुनः स्थापित करने का प्रयास कर रही है। इस अवसर पर विदेश मंत्री डॉ. एस. जयशंकर ने कहा कि वे एक वैश्विक शिक्षा पुल के पुनरुद्धार के साक्षी बन रहे हैं, जो पहले से भी अधिक दूर तक संबंध बना सकता है। शिक्षा, प्रशिक्षण और क्षमता निर्माण अंतर्राष्ट्रीय समझ को बढ़ावा देने के सबसे प्रभावी तरीके हैं।

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्राचीन विश्वविद्यालय के इतिहास की सराहना करते हुए कहा, “नालंदा विश्वविद्यालय का एक गौरवपूर्ण इतिहास रहा है। प्राचीन काल में नालंदा विश्वविद्यालय शिक्षा का केंद्र माना जाता था।” प्रधानमंत्री ने प्राचीन नालंदा विश्वविद्यालय के खंडहरों का भी दौरा किया, जिसे विश्व धरोहर के रूप में मान्यता प्राप्त है।

इस अवसर पर विदेश मंत्री एस. जयशंकर, बिहार के राज्यपाल राजेंद्र अर्लेकर, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उपमुख्यमंत्री सम्राट चौधरी और विजय सिन्हा सहित अन्य प्रतिनिधि उपस्थित थे। 17 देशों के राजदूतों ने भी इस कार्यक्रम में भाग लिया।

प्राचीन नालंदा के खंडहरों में एक मठ और शैक्षणिक संस्थान के पुरातात्विक अवशेष शामिल हैं, जिसमें स्तूप, मंदिर, विहार (आवासीय और शैक्षणिक भवन) और महत्वपूर्ण कला कार्य शामिल हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top