कश्यप सन्देश

12 June 2024

ट्रेंडिंग

18वीं लोकसभा का पहला सत्र 24 जून से 3 जुलाई तक आयोजित होगा
बांग्लादेश में ईद-उल-अधा की छुट्टी: भारत-बांग्लादेश व्यापार और ट्रेन सेवाओं पर प्रभाव
केरल में पूर्व फुटबॉल खिलाड़ी और प्रमुख फुटबॉल कोच टी के छठुन्नी का निधन
एक जुलाई से आईपीसी की जगह भारतीय न्याय संहिता (बीएनएस) में,थानों में दर्ज होंगे केस
ओडिशा के नए मुख्यमंत्री के रूप में वरिष्ठ भाजपा विधायक मोहन चरण माझी
टेनिस: सुमित नागल ने जर्मनी में हेलब्रोन नेकारकप चैलेंजर खिताब जीता
नरेंद्र मोदी ने तीसरी बार प्रधानमंत्री के रूप में कार्यभार संभाला, किसानों के लिए पहली फाइल पर हस्ताक्षर

उत्तराखंड में साहस्र ताल के पास नौ कर्नाटक के ट्रेकर्स की मौत

उत्तराखंड के साहस्र ताल के पास नौ कर्नाटक के ट्रेकर्स की मौत हो गई है। ये सभी एक 22-सदस्यीय समूह का हिस्सा थे और मंगलवार को साहस्र ताल से वापसी के दौरान खराब मौसम के कारण रास्ता भटक गए थे।

आईएएफ, एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की संयुक्त वायु-भूमि खोज और बचाव अभियान के माध्यम से 13 ट्रेकर्स को सुरक्षित बचा लिया गया है। साहस्र ताल ट्रेक उत्तराखंड के गढ़वाल क्षेत्र में 15,000 फीट की ऊंचाई पर स्थित एक उच्च-ऊंचाई ट्रेल है।

कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने इस घटना पर दुख व्यक्त करते हुए कहा कि साहस्र ताल के पास खराब मौसम के कारण नौ ट्रेकर्स की मृत्यु से वह अत्यंत व्यथित हैं। उन्होंने कर्नाटक सरकार के राजस्व मंत्री कृष्णा बायरे गौड़ा को देहरादून भेजा है ताकि वे सुनिश्चित कर सकें कि सभी बचाए गए ट्रेकर्स की सुरक्षित वापसी कर्नाटक में हो सके।

मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने यह भी कहा कि सरकार मृतकों के परिवारों को हर संभव सहायता प्रदान करेगी। इस दुखद घटना ने उच्च-ऊंचाई ट्रेकिंग के खतरों पर ध्यान आकर्षित किया है और यह आवश्यक है कि ऐसी साहसिक गतिविधियों के लिए अधिक सुरक्षा उपाय अपनाए जाएं।

उत्तराखंड प्रशासन ने भी इस घटना की जांच शुरू कर दी है और यह सुनिश्चित करने के प्रयास किए जा रहे हैं कि भविष्य में ऐसी दुर्घटनाओं को रोका जा सके। ट्रेकिंग में भाग लेने वाले लोगों को उचित तैयारी और स्थानीय मार्गदर्शकों की सहायता लेना अत्यंत महत्वपूर्ण है, खासकर ऐसे कठिन और जोखिम भरे मार्गों पर।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top