कश्यप सन्देश

23 June 2024

ट्रेंडिंग

असम के कामाख्या मंदिर में आज से प्रसिद्ध अंबुबाची मेला शुरू
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना के साथ की द्विपक्षीय वार्ता
प्रतियोगी परीक्षाओं में अनियमितताओं के दोषियों को अधिकतम 10 साल की जेल और 1 करोड़ रुपये तक का जुर्माना

दीपा कर्माकर ने एशियन चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतकर रचा इतिहास

दीपा कर्माकर ने कल उज्बेकिस्तान के ताशकंद में एशियन चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतकर भारतीय खेल इतिहास में एक नया अध्याय लिखा है। 30 वर्षीय दीपा ने 13.566 का औसत स्कोर प्राप्त कर यह महत्वपूर्ण जीत हासिल की है। यह पहली बार है जब किसी भारतीय जिमनास्ट ने एशियन चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीता है, जिससे देश का मान बढ़ा है।

दीपा की यह उपलब्धि न केवल उनके व्यक्तिगत करियर की महत्वपूर्ण मील का पत्थर है, बल्कि भारतीय जिमनास्टिक के लिए भी एक प्रेरणादायक क्षण है। इससे पहले, दीपा ने 2016 रियो ओलंपिक में प्रतिस्पर्धा कर इतिहास रचा था, जहां वे ओलंपिक में भाग लेने वाली भारत की पहली महिला जिमनास्ट बनी थीं।

इस स्वर्ण पदक के साथ, दीपा ने यह साबित कर दिया है कि भारतीय जिमनास्टिक में विश्वस्तरीय प्रदर्शन करने की क्षमता है। उनकी इस सफलता के पीछे सालों की कड़ी मेहनत, समर्पण और अपार धैर्य है। ताशकंद में दीपा की इस जीत ने न केवल उनके समर्थकों को गर्व महसूस कराया है, बल्कि युवा जिमनास्ट्स के लिए भी एक नई प्रेरणा दी है।

दीपा की इस सफलता पर देशभर से बधाइयों का तांता लग गया है। प्रधानमंत्री से लेकर खेल मंत्रालय और खेल प्रेमियों ने दीपा को उनकी इस अद्वितीय उपलब्धि पर बधाई दी है। यह जीत भारतीय खेल जगत के लिए एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है और आने वाले वर्षों में और भी उपलब्धियों की उम्मीद जगाती है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top